indiaresultz Blog

edgrerg 0

edgrerg

दृष्टिदोष के कारण अपर्याप्त भोजन, अपर्याप्त रोशनी, पोषक तत्वों का बालक के शरीर में कमी, रोग आँखों की उचित देखभाल न करना, दुर्घटना आदि । अंधे बच्चों पर व्यक्तिगत ध्यान, मूर्त विधियों से शिक्षण...

egthreth 0

egthreth

इकाई 15 विशिष्ट आवश्यकताओं वाले बालक, श्रवण व दृष्टिदोषयुक्त बालक, प्रतिभाशाली व पिछड़े बालक तथा बाल अपराधीबालक (Special Children & their needs, Hearing and Visual Impairment Children, Gifted and BackwardChildren and Delinquent Children) इकाई...

ergerg 0

ergerg

पर बुद्धि को जन्मजात (बुद्धि – ए) और वातावरण की देन (बुद्धि-बी) दो रूपों में अलग-अलग मानना युक्ति संगत नहीं है । 13.5 मूल्यांकन प्रश्न1. बुद्धि की अवधारणा की व्याख्या करों ।। 2. बुद्धि...

asfcasfc 0

asfcasfc

की जानकारी प्राप्त करने में, सोचने-समझने में और समस्याओं के समाधान खोजने में सहायता करती हैं, उसे थार्नडाइक ने अमूर्त बुद्धि (Abstract Intelligence) की सबा दी । अमूर्त बुद्धि इसलिए क्योंकि वह अमूर्त चिन्तन-मनन...

gfhrfg 0

gfhrfg

और होता है । IV. व्यक्ति-व्यक्ति में किसी गुण में भिन्नता उनके प्राप्तांकों के गुण विशेष के मध्यमानसे विचलन के अन्तर द्वारा प्राप्त होती है । V. वैयक्तिक विभिन्नता के मापीय लक्षण सामान्यता एक...

htjtb 0

htjtb

व्यक्तित्व के गुण कई प्रकार के होते हैं । जैसे – सामाजिक, धार्मिक, आध्यात्मिक, नैतिक चारित्रिक आदि । इन गुणों में कुछ आदर्श होते हैं व कुछ व्यवहारिक । मनोवैज्ञानिकों ने कुछ गुण प्रधान...

rghbre 0

rghbre

| ना होकर मिली जुली प्रकार की होती है । 11.3.1.3 क्रेश्मर का वर्गीकरण ।क्रेश्मर (Kretschmer) जो एक जर्मन मनोचिकित्सक थे | इन्होंने अपनी पुस्तक (Physique and Character 1925) में शारीरिक संरचना एवं गुणों...

gj,khyj 0

gj,khyj

एकान्तप्रिय, चिड़चिड़े तथा आक्रामक हो जाते है। 4. समन्वय शीलगुण – जैसा कि हम अध्ययन कर चुके हैं, व्यक्तित्व अनेक गुणों कासमन्वय है। समन्वय करने की शक्ति जितनी अच्छी होगी, व्यक्तित्व उतना ही173 सन्तुलित...

thjn 0

thjn

उदाहरण दें। | (7) बौद्धिक कौशल को समझाने के लिए कोई उदाहरण दे ।। 9.8 संदर्भ ग्रन्थ 1. De Cecco, John P. and Crawford, Willian. The Psychology ofLearning and Instruction, New Delhi: Prentric Hall...

vef 0

vef

अन्तरण को मुख्यत: दो भागों में बांटा जाता है – 1. धनात्मक / सकारात्मक अन्तरण2. ऋणात्मक / नकारात्मक अन्तरण 1 धनात्मक सिकारात्मक अन्तरण :पूर्व अर्जित ज्ञान के प्रयोग से नवीन ज्ञान को अर्जित करना...